top of page

Father



पिता की छाँव का एहसास सभी को हर वक़्त होता है,

अब ज़ाहिरी तौर पर क़रीब नहीं तो दर्द बहुत होता है।


दीदा-ए-पुर-नम व लब भी हमारे ख़ुश्क हो रहे होते हैं,

उनके दस्ते शफ़क़्क़त का तरीका याद आ रहा होता है।


जहाँ में अपना कहने वाले तो बखूबी मिल रहे होते हैं,

रहमान बाँदवी उनके जैसे मोहब्बत करने वाला भी कोई नहीं होता है।

रहमान बाँदवी

@ar51292

4 views0 comments

Recent Posts

See All

Ek sadak durghatna jo meine dekhi

एक सड़क दुर्घटना _ जो मैंने देखी कैसे करूं बयां जो मुझसे देखा भी नहीं जाता, एक ऐसा दृश्य जिसे देखकर हर कोई कांप जाता। वो कहते हैं ना दुर्घटना से देर भली, पर ये इंसान को कहां समझ में आता । जल्दी-जल्दी

Comments


bottom of page