top of page

Kuch Pal Jee Lijiye

कुछ पल जिया जाए


दिमाग की कोशिकाओं को चीरकर,

एक ख़्याल मानस पटलों पर उतरा,

रोजमर्रा की भागदौड़ भरी जिंदगी में,

समेट कुछ पल खुद के लिए जिया जाए।


अरसा बीत गया खुल के मुस्कुराए,

खुशियों के कुछ पल दामन में थामे,

रोज़ी के फेर में जो दूर हुए है अपने,

उनके साथ कुछ पल मन जिया जाए।


दोस्तों के साथ वो बेपरवाही से बातें,

पापा की डांट पर मां का बचा लेना,

भाई बहनों की नोकझोंक, लाड़ प्यार,

फिर से खट्टी मीठी यादों में जिया जाए।


आजाद कर खुद को जिम्मेदारियों से,

दौलत के चक्रव्यूह से आजाद होकर,

बाहें फैला जिंदगी से कुछ पल चुराकर,

खुल कर मुस्कुरा कर खुशी से जिया जाए।।


© Nikhil Jain

@love.vibes143


14 views0 comments

Recent Posts

See All

Ek sadak durghatna jo meine dekhi

एक सड़क दुर्घटना _ जो मैंने देखी कैसे करूं बयां जो मुझसे देखा भी नहीं जाता, एक ऐसा दृश्य जिसे देखकर हर कोई कांप जाता। वो कहते हैं ना दुर्घटना से देर भली, पर ये इंसान को कहां समझ में आता । जल्दी-जल्दी

Comments


bottom of page